Sunday, February 24, 2013

Exchange Traded Derivatives - OPTIONS

Option Contract :

In this post I ll explain basic concepts of options. In financial market Options are contracts like forward and futures with some more flexibility. As we have seen in case of futures two parties go in a contract to carry out a trade on some future date.In this type of contract parties are oblized to fulfil the contract and one party is always going to benefit from the trade so trade always takes place.
In options contract the party 'buying' the contract has an option to exercise the contract or to let it go unexercised. At the time of expiry of contract ( depending on wether its European type or American type. I ll explain about it a bit later. ) if option buyer thinks that he is going to get benefit from this trade then he can choose to exercise the contrct but if he finds that the trade is not profitable for him then he ll ignore that.


Let's consider the same example of  murari lal and ramdin again. Murari lal who is an owner of a flour mill wants to buy wheat from Ramdin who is a former in nearby village. This is month of january and wheat in market is being traded at INR28 per kg.Murari Lal expects this price to go up to INR30 /kg in march but he wants to buy it in  march at a price of INR28 per kg only.
Ramdin who is a former expects wheat prices to go down to INR25/kg due to arrival of new crop.
Murari lal agrees to pay INR1/ kg now if Ramdin agrees to supply him heat at coast of INR28 /kg irrespectie of the market price at that time. So at this time murarilal pays INR 100 to Ramdin to buy 100 kg of wheat on 25 march at peice of INR28 per kg.
Now on 25 march We may have following scenarios:
1) wheat is trading at INR25 per kg in market. in this case Murari lal will prefer to buy wheat from market and he ll not buy it from Ram din according to the contract. becase according to the contract he ll have to pay INR 2800 for 100 kg while he can get the same quantity in INR 2500 from market.
In this case Murari lal has a lose of INR 100 which he paid initially to buy this contract.

2) Wheat is trading at INR28 / kg in market. In this case Murari lal may or may not  fulfil the contract in any case he ll lose his INR100 that he initially paid. He ll have to pay INR 2800 wether he buys it from ramdin or from market.

3) Wheat is trading at INR28.50 /kg. In this case Murari lal must exercise the contract. ie his right to buy. In market he ll have to pay INR 2850 if he buys 100 kg wheat.  if he buys it from Ram din according to contract then he ll have to pay INR 2800 only.
So in this case murari lal has a profit of INR 50 on trade but he already has paid INR 100 for contract so still he is in loss of INR 50 but this is less than what he would have if he doesn't exercise the contract.

4). Wheat is trading 1t INR 29 /kg in market.  in this case Murari lal will exercise the contract and he ll make a profit of INR 100.Since he is paying INR2800 if he exercises the contract. If he buys the same quantity from market then he ll have to pay INR 2900.
In this trade he doesn't have any profit or loss over all because he paid INR100 for contract.

5) Wheat is trading at INR 32 /kg in  market. in this case On fulfillment of contract murari lal will have a profit of INR 400 on trade. If we subtract INR 100 that he paid for contract then over all profit on this trade is INR300w.

As it is clear from above discussion loss of Murari lal is limited to INR 100 even in case of  the sharpest decline in wheat price. Even if wheat is trading at INR 1/kg he ll simply not buy it from Ramdin and maximum he ll loose is INR 100.

But in case of sharpest rise of price due to some event his profit is unlimited. say if wheat price goest to INR 50/kg his profit will go to INR 2100.

 From example above Follwoing are some standard terms that are used in Options market.

Options Contract : The Type of contract in which buyer has an option to exercise contract. Like in above example murari lal has baught an option to buy het on 25 th march at Rs 28/kg in 1 Rs/kg. He no has a right to excercise this contract  if he wishes to do so.

Strike Price :  Or just strike. It is the price on which the product will be traded according to the contract. for example in above case Rs 28 in which wheat will be purchased  is strike price because this is the agreed price for which contract is done.

Contract Expiry/Maturity Date : This is the date on which contract expires. If it is has to be exercised then it must be done on or before this date. In american type of contracts the option can be exercised on any date before this date. In European types of contract this can be done only on expiry Date.

Option Premium: This is the amount which is paid for buying options. In example above option premium paid was Rs 100 for 100 kg of heat.

Lot size :  Usually options are traded in lot of multiple quantities. For example in above case murari las to pay premium for 100 kg of heat. IF e consider 1 kg of wheat as one unit and we always trade in multipe of 100 kg then lot size ould be 100.

Spot Price :  This is market price of product at any given point of time. Like if it is 27th of february today and wheat is trading at 26 Rs /kg then spot price ould be 26 Rs. as we saw skrike price is Rs 28 for above contract.

In Money Option :  If at any point of time (before expiry ) a contrat is making money. ie it were to exercise
at that time and it could be profitable then it is called in money option.

In above example as we swa murari lal is going to exercise his option  at a price more than Rs. 28 i e strike price.So for above examplew at any point of time when market price is more than strike price then contract is said to be in money contract.
Out of money contract : Similarly if for above contract at any point of time wwmarket price of product is lower than its strike price then option wwiwll be wout of money option.

Type Of Options (Put and Call) :

In the example above where murari lal baught an option of buying 100kg of wheat at price of 28 Rs/kg , murari lal actually baught a call option.
A call option is an option in which buyer of contract has a right to buy underlying. Underlying may be anything in example above the underlying is wheat. similarly it an be metal, oil, stock , currency or even index.
Similarly Ram Din who wants to sell hie wheat crop maybe interested in selling his crop on a certain price.
in that cse he 'd like to buy a put option. Buying a put
option gives you a right to sell underlying on a certain price.

So anyone expecting a fall in price of underlying buys a put option so that he can sell it even if its market price goes below the strike price of underlying.

From above discussion its clear that put option buyer is bearish in nature. i.e. he expects market to go down to make money. on other hand a call option buyer is bullish in his approach i.e. he expects market to go up to make some profit.

Like buying of these options you can also sell these options to give someone a right to buy or sell.
you can sell a put contract to give someone a right to sell certain quantity of some underlying to you. If market price of underlying goes below the strike price then buyer ll exercise his option.If you are a put  option seller then you ll expect price of underlying to go up. if it does not go below strike price then your profit is option primium that you received initially while selling the option.

Friday, October 5, 2012

वित्तीय व्युत्पादनों का परिचय (Introduction To Financial Derivatives)

वित्तीय व्युत्पादनों  का परिचय (Introduction To Financial Derivatives)
Part 2. Future Contracts:
भाग 2 .वायदा अनुबंध 

जैसा की वायदा संविदा की व्याख्या करते मैं बता चुका हूँ की व्युत्पादन सामान्यतः व्यापार  में जोखिम कम करने के लिए होते हैं. जैसा की हमने देखा  की रामदीन एक सम्झौदा करता है वायदा संविदा के रूप में मुरारी लाल के साथ अपने भविष्य में होने वाले नुकसान से बचने के लिए।
वायदा अनुबंध जो की वायदा संविदा की ही प्रकार का दूसरा सम्झौदा या व्युतापदन है को समझने के लिए हम निम्नलिखित उदहारण पे विचार करते है।

मान लीजिये की रामदीन भविष्य में अपनी फसल काटने के बाद गेहूं 35INR पार्टी किलोग्राम के हिसाब से बेचना चाहता है। अगर मुरारी लाल इस समझौते के लिए मान जाता है तो रामदीन उसके साथ वायदा संविदा कोन्त्रक्ट में जायेगा और वो दोनों एक भविष्य की डेट के लिए ये समझौता करेंगे। मान लीजिये की मुरारी लाल इस समझौते में नही जाना चाहता। उसे लगता है की गेहूं की कीमतें इससे कम रहने वाली है तो उस समय बाज़ार से और सस्ता गेहूं खरीद सकता है। इस स्थिति में रामदीन के पास क्या विकल्प रह जाता है ? रामदीन या तो किसी दुसरे आता मिल वाले को ढूंढे जो उसका गेहूं खरीद नियत मूल्य पे या किसी भी ऐसे व्यापारी को जो 6 माह बाद इस मूल्य पर गेहूं खरीदने में दिलचस्पी रखता हो। यदि रामदीन ऐसे किसी व्यक्ति को खोज पता है तो ठीक है अन्यथा उसे ये समझौते से वंचित रहना पड़ेगा।
रामदीन की समस्या के एक समाधान है की वो किसी  ऐसी जगह से ये समझौता करे जहाँ उसे किसी किसी व्यक्ति पे निर्भर न रहना पड़े। शेयर बाजार एक ऐसी जगह है जहाँ वो एक वायदा अनुबंध खरीद सकता है और ये जिम्मेदारी exchange की होती है की वो इस अनुबंध का विक्रेता खोजे।
ये प्रक्रिया इस प्रकार चलती है , रामदीन किसी व्यक्ति के पास जाने की बजाये शेयर बाजार में जाता है और शेयर बाजार में एक वायदा अनुबंध खरीदने का आर्डर करता है अर्थात वो ये चाहता है की इस समझौते के तहत 6 माह बाद 100 किलोग्राम गेहूं 35 INR /kg  के हिसाब से बेचे । शेयर बाजार इस आर्डर को मैच करता है एक ऐसे आर्डर से जो बेचने के लिए किया गया है। मान लीजिये हिरा लाल एक दूसरा व्यापारी है जो शेयर मार्केट जाता है और एक आर्डर ऐसा वायदा अनुबंध बेचने के लिए करता है। अर्थात वो ये चाहता है की 6  बाद 100 kg  गेहूं 35 INR /kg  के हिसाब से खरीदने का अनुबंध ले।
शेयर बाजार जब ये देखता है की उसके पास एक ऐसा आर्डर है जो की अनुबंध को बेचने के लिए है और एक ऐसा आर्डर है जो अनुबंध खरीदने के लिए है तो वो इस रामदीन और हीरालाल दोनों के आर्डर को पूरा कर देता है। अर्थात रामदीन के पास ऐसा कोन्त्रक्ट है जो उसे 6 माह बाद 100 कग गेहूं 35INR /किलोग्राम के हिसाब से बेचने की गारंटी देता है। और इसी प्रहार हिरा लाल 100 कग गेहूं 6 माह पश्चात 35 INR /किलोग्राम में खरीद सकता है। इस स्थिति में रामदीन और हीरालाल एक दुसरे को जानते नही है। रामदीन को जो गेहूं बेचना है वो एक्स्चेंज को बेचना है। और  इसी प्रकार हीरालाल को जो गेहूं खरीदना है वो एक्सचेंज से खरीदना है।
इस प्रकार का अनुबंध जिसे  हम किसी क्लेअरिंग हाउस या एक्सचेंज की मदद से  करते है  वो वायदा अनुबंध अनुबंध कहलाता है .

ओवर द काउंटर और एक्सचेंज ट्रेडेड अनुबंध 

वायदा संविदा वयापार को हम ओवर द काउंटर ट्रेड बोलते हैं। क्यूंकि ये दो पक्षों के बीच सीधे तौर पे होते हैं। वायदा अनुबंध एक्स्चेज ट्रेडेड अनुबंध कहलाते हैं क्यूंकि इनके ट्रेड में एक्सचेज शामिल होता है।

इस प्रकार वायदा अनुबंध और वायदा संविदा में एक मुख्या अंतर ये है की वायदा अनुबंध एक्सचेंज ट्रेडेड होते है अर्थात उन्हें हम एक्सचेंज  पे खरीद या बेच सकते हैं जबकि वायदा  संविदा तो पक्षों के बीच में होती है।

Friday, September 28, 2012

वित्तीय व्युत्पादनों का परिचय (Introduction To Financial Derivatives)

 वित्तीय व्युत्पादनों  का परिचय ( Introduction To Exchange Traded Financial Derivatives )

  Part 1. (Forward contracts) : 

  भाग 1. (वायदा संविदा ) :
 अनुबंध (Contracts)  एक प्रकार वित्तीय व्युत्पादन (Financial Derivatives ) के है जिन्हें हम बाजार में होने वाली मूल्यों की अनियमितता से अपने को अप्रभावित रखने के उपयोग करते हैं। व्युत्पादन (derivative ) वो होते हैं जो अपना मूल्य किसी दूसरी वस्तु के मूल्य से प्राप्त (derive ) करते हैं।

 सामान्यतः व्यापर करते समय हमें अनेक वस्तुवो के मूल्यों का भविष्य का अनुमान ठीक प्रकार से नही होता। जैसा की हम जानते हैं की बाज़ार  में वस्तुवों की कीमतों में नाना प्रकार के उतार चढ़ाव आते रहते हैं। अतः हमें ग्राहक (buyer) और विक्रेता (seller) दोनों तरह से नुकसान होने की संभावना रहती है। अगर आप ग्राहक हैं तो बाजार में मूल्य वृद्धि की हालत में आपको नुकसान उठाना पड सकता है . और अगर आप विक्रेता है तो आपको दामों में कमी की वजह से नुकसान हो सकता है।

इसे एक उदहारण के रूप में देखा जा सकता है , रामदीन जो की करतारपुर ग्राम का किसान है सामान्यतः गेहूं उगाता  है . गाँव से कुछ दूर कसबे में मुरारी लाल की आटा  मिल है। मुरारी लाल हर वर्ष रामदीन से गेहूं बाजार भाव पर खरीदता है . इस सौदे में दोनों का फायदा या  नुकसान गेहूं की कीमतों पे निर्भर करता है . अगर गेहूं की कीमतें ज्यादा हैं तो रामदीन को ज्यादा  फायदा होता है अन्यथा मुरारी लाल को।

इस प्रकार हम देखते हैं की सामान्य व्यवसाय में कीमतें घटने या बढ़ने का फायदा एक पक्ष को होता है।मान लीजिये किसी वर्ष गेहूं की पैदावार बहुत अच्छी होती है और बाजार में गेहूं की कीमतें बहुत कम हो जाती है तो इस अवस्था में हो सकता है की रामदीन को बहुत नुकसान उठाना पड़े और हो सकता है की वो अपनी खेती की लागत  को भी न निकल पाए। इसी प्रकार अगर मानसून ख़राब होने की वजह से किसी वर्ष मुरारी लाल को गेहूं आसानी से नहीं मिलता तो उसे अधिक दामों में ये खरीदना पड़  सकता है।
इस तरह का जोखिम प्रायः व्यापर में पाया जाता है . कई बार ये जोखिम ग्राहक और विक्रेता दोनों को उठाना  होता है . पर कई बार ये प्रकार के जोखिम सहने में व्यापारी असमर्थ होते है। उपरोक्त उदहारण में अगर गेहूं की कीमतें इतनी कम हो जाये की रामदीन खेती के लिए लिया गया अपना कर्ज न चूका पाए तो उसकी लिए परिस्थितियां मुश्किल हो सकती हैं।
 इस प्रकार की परिस्थिति से बचने के लिए हम वित्तीय अनुबंधों  (financial contracts )का उपयोग करते हैं .
उदहारण के लिए ऊपर के उदहारण में मान लीजिये की गेहूं की मौजूदा कीमत 28 INR प्रति किलोग्राम है . और रामदीन अभी गेहूं की हसाल उगने में लगा है जो की 6 महीने बाद तैयार होने वाली है . रामदीन को लगता है की इस वर्ष गेहूं की फसल की कीमतें कम होने वाली है फसल काटने के बाद। रामदीन को लगता है अगर उसकी फसल काटने के बाद वो गेहूं 30 INR प्रति किलोग्राम के भाव पे बेच पाया तो उसे फायदा हो सकता है। पर अगर गेहूं की कीमत 25 INR प्रति किलोग्राम हो गयी तो उसे नुकसान उठाना पड़  सकता है। मुरारी लाल से रामदीन एक समझौता करता है जिसके तहत रामदीन मुरारी लाल को 6 महीने के बाद 100 kg  गेहूं 30 INR प्रति किलोग्राम के हिसाब से बेचेगा बाजार में उसका मूल्य भले ही कुछ भी हो। अब मुरारी लाल इस समझौते को क्यूँ मानेगा ? क्यूंकि रामदीन से अलग मुरारी लाल को ये लगता है की गेहूं की कीमतें 6 माह पश्चात् बाजार में 35 INR प्रति किलोग्राम होने वाली है। इस समझौते के हिसाब से दोनों में से एक पक्ष को फायदा होगा और दुसरे को नुकसान। पर इस समझौते का एक फायदा ये है की दोनों पक्ष भविष्य की अपनी अनिश्चितता से चिंतामुक्त हो रहे हैं। मुरारी लाल को ये चिंता नही है की अगर बाजार में गेहूं नही रहा या बहुत महंगा रहा तो उसकी अत मिल बंद हो जाएगी और रामदीन को ये चिंता नही है की अगर गेहूं की कीमते बहुत कम हो गयी तो उसे बहुत कम कीमत मिलेगी उसकी फसल की और उसे नुकसान उठाना पड़ेगा।  सामान्यतः इस प्रकार के समझौतों में अनुबंध रकम समझौते के समय चुकानी पड़ती है।
अब मान लीजिये  6 महीने बाद गेहूं का मूल्य बाजार में 24 INR प्रति किलोग्राम हो जाता है। इस स्थिति में फायदा रामदीन को होगा। क्यूंकि वो मुरारी लाल को 30INR कग में गेहूं बेच रहा होगा। परन्तु यदि ये मूल्य 31 INR प्रति  किलोग्राम हो जाता है तो फायदा मुरारी लाल को है।क्युकी वो रामदीन से बाजार भाव से 1 रूपये कम में गेहूं ले रहा होगा। इस स्थिति में रामदीन को नुकसान अवश्य है पर ये उस स्थिति से बहुत अची है जबकि उसे 24 INR में बेचना पड़ता अगर उसने अनुबंध न किया होता।
 इस प्रकार के समझौते जिन्हें हम अनुबंध कहते हैं वायदा संविदा (forward contract ) के नाम से जाने जाते हैं। वायदा संविदा (forward contract)  में दो पक्ष होते हैं और दोनों पक्ष आपस में इस तरह का समझौता करते हैं। समझौते को निभाने की जिम्मेदारी इन दोनों पक्षों पे होती है। और दोनों आपस में वायदा संविदा(forward contract)  के नियमों का पालन करते हैं। दोनों पक्ष अनुबंध की शर्तों के हिसाब से नियत तिथि को अनुबंध (contract)  की शर्तों को पूरा करते हैं।
अगर रामदीन मुरारी लाल से 1 जनुअरी को समझौता करता है 1 जून को गेंहूँ बेचने के लिए किसी निश्चित मूल्य पे तो वो उस दिन नियत मूल्य पे नियत मात्रा में गेहूं उसे बेचेगा.

 वायदा संविदा (forward contract) में प्रयुक्त होने वाली विविध शब्दावली इस प्रकार है :

अग्रिम मूल्य (forward price ) ये वो मूल्य होता है जिसपे वायदा संविदा में वस्तु को खरीदने का अनुबंध किया जाता है। उदहारण के तौर पे ऊपर रामदीन ने मुरारी लाल से 30 INR  /kg  में गेहूं बेचने का करार किया है अतः अग्रिम मूल्य या फॉरवर्ड price 30 INR /kg  होगा।

मौजूदा भाव (spot price) : ये वो मूल्य होता है जो बाजार में उस वस्तु का मौजूदा मूल्य होता है . ऊपर के उदहारण में गेहूं का मौजूदा मूल्य 28INR  /kg उसका वस्मौजुदा मूल्य या स्पोट price है।

 संविदा खरीददार : (contract buyer ) : वो पक्ष जो मूल्य चूका कर अनुबंध खरीदता है। जैसे उपरोक्त उदहारण में मुरारी लाल अनुबंध खरीद रहा है।

संविदा या अनुबंध विक्रेता: (Contract seller ) : अनुबंध विक्रेता वो पक्ष होता है जो वस्तु को प्रदान करने का वायदा करता है। उपरोक्त उदहारण में रामदीन अनुबंध बेच रहा है।

अग्रिम संविदा लाभ (forward premium) : अनुबंद की समाप्ति के दिन जिस पक्ष को लाभ(प्रोफिट)  प्राप्त करने वाले पक्ष को जितना प्रोफिट होता है उसे फॉरवर्ड पेरेमियम या संविदा लाभ कहते हैं। ऊपर के उदहारण में गेहूं का मूल्य 24INR प्रति किलोग्राम होने पर

वायदा संविदा के प्रकार  (Types f forward contracts): ऊपर के उदहारण में हमने जिस प्रकार की वायदा संविदा की बात की उसमे समझौता गेहूं को लेके किया गया था। इसी प्रकार बाज़ार में इस तरह का अनुबंध हम अन्य तरह के व्यापर के लिए कर सकते है इसके कुछ उदहारण निम्नलिखित हैं :

मुद्रा वायदा संविदा (currency forward contract ): मुद्रा बाजार में हम मुद्रा विनिमय दर को लेके अनुबंध कर सकते हैं। मान लीजिये आज अमेरिकेन डॉलर के मुकाबले रुपये की कीमत 45 रूपये है। कमल जो की अमेरिका से कंप्यूटर चिप्स मांगता है , को पेमेंट डॉलर में करना पड़ता है। अगर डॉलर की कीमत बढती है और ये 6 माह बाद  47 रूपये का हो जाता है तो कमल को 1 कंप्यूटर चिप के लिए ज्यादा रूपये देने पद सकते हैं। कमल ऐसी हालत में किसी दूसरी पार्टी के साथ ऐसे अनुबंध में जा सकता है जो की 6 माह पश्चात् भी उसे डॉलर 45 रूपये में देने का वादा कर सके।

वस्तु वायदा संविदा (commodity forward contract) : जब संविदा किसी वस्तु को लेके की जाती है तो उसे वास्तु वायदा संविदा कहते है। रामदीन और मुरारी लाल के उदहारण में वो एक वास्तु संविदा करते है। 

शेयर वायदा संविदा (stock forward contract) : जब दो पक्ष शेयर खरीदने या बेचने को लेके किसी अनुबंध में जाते हैं तो वो शेयर वायदा संविदा करते हैं। मन लीजिये रमण शाह के पास इनफ़ोसिस के 100 शेयर हैं और वो इन्हें बेचना चाहता है।इसकी बाजार में कीमार 2500 INR प्रति शेयर है। यदि रमण इन शेयरों को 6 माह बाद 2600 में बेचना चाहता है तो किसी ऐसे पक्ष के साथ वो अनुबंध में जा सकता है जो उस समय इस मूल्य में इसे खरीदने को तैयार हो।

आगे अपनी दूसरी पोस्ट में मैं वायदा अनुबंध (Future Contract) की व्याख्या करूँगा। और आगे आने वाली पोस्ट्स में फॉरवर्ड कोन्त्रक्ट(forward contract) यानि वायदा संविदा के मूल्य निर्धारण (price valuation ) के बारे में लिखूंगा।